Google+ Followers

मंगलवार, 27 अप्रैल 2010

62 साल से महिला कलेक्टर-एसपी का इंतजार

बाबूलाल शर्मा
जयपुर . राज्यपाल, मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष और मुख्य सचिव जैसे सर्वोच्च पदों पर महिलाएं जहां खुद को साबित कर चुकी हैं, उसी प्रदेश की राजधानी जयपुर के लिए यह हैरानी की बात है कि आज तक एक भी महिला कलेक्टर और एसपी के पद पर नहीं रही। काबिलेगौर है कि जयपुर में इन पदों  सृजित हुए 62 साल हो चुके हैं।


यदि मामला राजधानी की संवेदनशीलता या प्रशासनिक पेचीदगियों का भी हो तो जयपुर से कहीं ज्यादा संवेदनशील माने जाने वाले टोंक में कलेक्टर और एसपी दोनों महिला अफसरों की मौजूदगी से यह बात खारिज हो जाती है। यही नहीं अजमेर जैसे संवेदनशील जिले में अब तक चार महिलाएं कलेक्टर और श्रीगंगानगर में उस समय महिला एसपी तैनात थी जब घड़साना में हिंसक आंदोलन चरम पर था। जयपुर में डिवीजनल कमिoAर के अहम पद पर महिला आईएएस तैनात हैं, महापौर भी महिला हैं लेकिन राजधानी को अभी भी कलेक्टर-एसपी का इंतजार है।


अब तक 22 जिलों में महिलाएं कलेक्टर: राजस्थान कैडर की वर्तमान में 28 महिला आईएएस हैं। इनमें से पांच दिल्ली में नियुक्त हैं। राज्य में 22 जिलों में महिलाएं कलेक्टर रह चुकी हैं। वर्तमान में बूंदी, बीकानेर, भीलवाड़ा व टोंक में महिला कलेक्टर हैं।


11 जिलों को नहीं मिली कमान : राजधानी जयपुर समेत ऐसे 11 जिले हैं जिनमें कभी महिला आईएएस कलेक्टर के पद पर नियुक्ति नहीं हुई। इन जिलों में उदयपुर, अलवर, झुन्झुनूं, जोधपुर, बारां, चूरू, झालावाड़, प्रतापगढ़, बाड़मेर, और जैसलमेर शामिल हैं।


13 आईपीएस महिलाएं : जयपुर में आज तक कोई महिला अफसर फील्ड पोस्टिंग में एसपी नहीं लगी। प्रदेश में कुल 159 आईपीएस हैं जिनमें से 13 आईपीएस महिलाएं हैं। राजस्थान कैडर की पहली महिला आईपीएस 1989 मे नीना सिंह बनीं। इससे पहले एकमात्र आईपीएस बादाम बैरवा रही थीं। जो आरपीएस से आईपीएस बनी। प्रदेश में 12 जिले ऐसे हैं जहां महिलाओं ने पुलिस की कमान संभाली।


वर्तमान में तमिलनाडु में लतिका शरण पुलिस महानिदेशक के पद पर हैं, यही नहीं उत्तराखंड में भी कंचन चौधरी डीजीपी रह चुकी हैं तो फिर जयपुर में अभी तक किसी महिला आईपीएस को फील्ड पोस्टिंग के रूप में एसपी नहीं लगाना चिंताजनक है। जयपुर की पहली पुलिस कमिश्नर महिला आईपीएस बने।
- पीके तिवारी, रिटायर्ड डीजीपी, राजस्थान


पूर्व मुख्य सचिव रह चुकी कुशल सिंह कोटा में कलेक्टर रही थीं, अजमेर, बीकानेर, उदयपुर संभाग मुख्यालयों पर जब कलेक्टर का काम महिलाएं बखूबी संभाल चुकी हैं तो जयपुर में भी कलेक्टर के पद पर किसी महिला अफसर को लगाने में क्या हर्ज है?


- इंद्रजीत खन्ना, पूर्व मुख्य सचिव, राजस्थान

1 टिप्पणी: