Google+ Followers

रविवार, 25 अप्रैल 2010

सांसद, कलेक्टर-एसपी के घर भी दूषित पानी

बाबूलाल शर्मा
जयपुर. क्या आप यकीन करेंगे- शहर का आम आदमी ही नहीं बल्कि सांसद, कलेक्टर, विधानसभा सचिव और पुलिस अधीक्षक तक प्रदूषित पानी पी रहे हैं। यह खुलासा भास्कर की ओर से कराई गई पानी की जांच में हुआ है। हां, राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी के घरों में जलदाय विभाग साफ पानी की सप्लाई कर रहा है।


भास्कर ने मुख्य सचिव टी श्रीनिवासन, डीजीपी हरीश चंद्र मीणा, सांसद महेश जोशी,न्यायाधिपति प्रेमशंकर आसोपा, कलेक्टर कुलदीप रांका, एसपी (साउथ) जोस मोहन व विधानसभा सचिव एच आर कुड़ी के बंगलों, नगर निगम मुख्यालय व एसएमएस अस्पताल परिसर से पानी के सैंपल लेकर इनकी ज्ञान विहार यूनिवर्स की प्रयोगशाला में जांच कराई तो परिणाम हैरान करने वाले निकले। मुख्य सचिव व पुलिस महानिदेशक के बंगलों के ही सैंपल तय मानकों पर खरे उतरे, बाकी 7 नमूनों में हानिकारक तत्व पाए गए।

सांसद, विधानसभा सचिव , न्यायाधीश , कलेक्टर तथा एसपी के बंगले के पानी में प्रदूषक तत्वों की मात्रा मिली। इनके यहां अपारदर्शी (गंदला) पानी मिला। इस पानी में स्माल पार्टिकल और स्लाइट व मोर टर्बिडिटी के रूप में मिले आर्गेनिक पोल्यूटेंट्स के लगातार इस्तेमाल से इन बंगलों में रह रहे लोगों की सेहत गड़बड़ा सकती है। वहीं नगर निगम मुख्यालय में आम जन के लिए लगाए गए वाटर कूलर में मोर टर्बिड यानी सर्वाधिक प्रदूषक तत्व मिले हैं। एसएमएस अस्पताल में बांगड़ के बाहर सार्वजनिक नल का पानी भी पीने योग्य नहीं है। डीजीपी, कलेक्टर, निगम मुख्यालय और एसएमएस अस्पताल परिसर के पानी में क्षारीय व अम्लीय तत्व भी बॉर्डर लाइन पर है।


जांच में कलेक्टर, एसपी, विधानसभा सचिव के बंगलों और नगर निगम मुख्यालय में सब रजिस्ट्रार कार्यालय के पास लगे वाटर कूलर के पानी में टीडीएस की मात्रा भी खतरनाक स्थिति में है। अमेरिकन स्टैंडर्डस के मुताबिक पानी में 500 एमजी/लीटर तथा डब्ल्यूएचओ के अनुसार 600 एमजी/लीटर तक टोटल डिजोल्वड सोलिड (टीडीएस) होना चाहिए लेकिन यहां इसकी मात्रा 800 के ऊपर हैं, वहीं निगम मुख्यालय के पानी में तो यह मात्रा 1200 को भी पार कर गई। दिलचस्प तथ्य यह है कि राजस्थान में भी टीडीएस की स्वीकार्य सीमा 500 एमजी/लीटर ही है, लेकिन अधिकतम सीमा बढ़कर 2000 तक हो गई। विशेषज्ञों का मानना है कि भले ही अधिकतम सीमा 2000 हो, लेकिन डब्ल्यूएचओ के अनुसार ६00 से ऊपर टीडीएस सेहत के लिए खतरनाक है।


मुख्य सचिव, डीजीपी के यहां साफ पानी


पानी की सैंपल जांच में जहां सांसद, कलेक्टर और अन्य अफसरों के यहां प्रदूषित पानी मिला वहीं राज्य के मुख्य सचिव और डीजीपी के बंगलों में जलदाय विभाग साफ पानी सप्लाई कर रहा है। इनके यहां न तो टर्बिडिटी पाई गई और न ही अन्य प्रदूषक तत्व। आश्चर्यजनक तथ्य यह भी है कि इन दोनों ही जगह पर लिए गए सैंपल न सिर्फ अमेरिकन स्टैंडर्ड बल्कि इंडियन स्टैंडर्ड के अनुसार भी खरे साबित हुए। यहां डीडीएस की मात्रा क्रमश: 422 और 354 थी जबकि परमानेंट हार्डनेस भी स्टैंडर्ड के दायरे में मिली।


बीसलपुर से आता है साफ पानी, जलदाय विभाग कर देता है गंदा


भास्कर ने आला अधिकारियों के अलावा बीसलपुर से आने वाले पानी की जलदाय विभाग की गांधीनगर स्थित प्रयोगशाला में भी जांच कराई। ये सैंपल बीसलपुर प्रोजेक्ट के बालावाला पंप हाउस पर बने स्टोरेज टैंक, जवाहर सर्किल पर बने स्टोरेज टैंक और मालवीय नगर सेक्टर दो से लिए गए। जांच में बीसलपुर से आने वाला पानी मानकों पर खरा उतरा है। ऐसे में सवाल उठता है कि बीसलपुर से जयपुर में आने के बाद घरों में जो पानी पहुंच रहा है क्या वह जलदाय विभाग की जर्जर हो चुकी लाइनों के कारण प्रदूषित हो रहा है? क्योंकि अब तक दूषित पानी के जितने भी मामले सामने आए हैं, उनमें सीवरेज लाइनों की मिक्सिंग प्रमुख कारण रहा है। पीएचईडी की प्रयोगशाला में सीनियर केमिस्ट सीमा गुप्ता ने जांच रिपोर्ट सौंपते हुए कहा कि बीसलपुर के पानी के सैंपल पूरी तरह प्रदूषण मुक्त है।


टर्बीडिटी क्या?


पानी में टर्बीडिटी इसमें पाए जाने वाले तत्वों के कारण होती है, जो पानी को गंदला बना देती है। इनमें रेत और अन्य तत्वों के कण शामिल हैं। 5 एनटीयू से कम टर्बीडिटी वाला पानी ही पीने के लिहाज से ठीक है।


विशेषज्ञों ने बताया- बीमारियों का पानी


9 सैंपलों में से 7 में टर्बिडी मिली। चार सैंपलों में


टीडीएस की मात्रा यूएसए स्टैंडर्ड 500 के बजाय 800 और 1200 एमजी प्रति लीटर मिली, जो पेट की बीमारियां का प्रमुख कारण है। सभी सैंपलों में जल की स्थायी कठोरता तय मापदंड से ज्यादा है, जो हड्डियों, पित्ताशय, लीवर और गुर्दो के लिए खतरा है।


- डॉ. आर. सी. छीपा, सेंटर हैड (सीएडब्ल्यूएम), ज्ञान विहार यूनिवर्स, जयपुर


ज्यादा टर्बिड पानी प्रदूषित तत्वों की मात्रा ज्यादा होती है। इस पानी के क्लोरीनेशन के बावजूद बैक्टीरिया जीवित रह जाते हैं और वे शरीर में जाकर गंभीर बीमरियां फैला सकते हैं।


— डॉ. एस. एस. ढींढसा, रिटायर्ड चीफ केमिस्ट, पीएचईडी प्रयोगशाला, जयपुर

3 टिप्‍पणियां:

  1. This is India....Great
    Dr. Chandrajiit Singh
    kvkrewa.blogspot.com
    lifemazedar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप हिंदी में लिखते हैं। अच्छा लगता है। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं..........हिंदी ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं.....बधाई स्वीकार करें.....हमारे ब्लॉग पर आकर अपने विचार प्रस्तुत करें.....|

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं