Google+ Followers

गुरुवार, 16 सितंबर 2010

आदमी ही आदमी से प्यार करता है

आदमी ही आदमी का खून रता है।
आदमी ही आदमी से प्यार रता है,
आदमी ही आदमी पर वार रता है।

गाना जो गा रहा है, वो भी आदमी है,
सडक़ पर रोता जो जा रहा है, वो भी आदमी है।
गोली जो चला रहा है वो भी आदमी है,
गोली जो खा रहा है, वो भी आदमी है।

जेलर भी है आदमी, कैदी भी है आदमी
कोड़े जो खा रहा है वो भी आदमी है,
                                                                                                                                                 रिक्शे पर जो रहा है, वो भी आदमी है।
                                                     मंदिर, मस्जिद बनवाए आदमी ने,
Sh Suresh Chandra Sharma
phone no. 9351718660
01412296683

धार्मि उन्माद आया तो उन्हें गिराया भी आदमी ने।

1 टिप्पणी: